Sanak Movie Review: सनक में सनक जैसा कुछ नही विद्युत के फैन्स हो सकते हैं निराश

विद्युत की सनक में सनक जैसा कुछ नही  विद्युत के फैन्स हो सकते हैं निराश क्योंकि शायद निर्देशक कनिष्क वर्मा को सनक या सनकी का मतलब ही नही पता इस पोस्ट में हम विद्युत की नई फिल्म sanak का रिव्यु करेंगें।

Sanak Movie Review

सनक मूवी का एक ही प्लस पॉइंट विद्युत जामवाल बाकी फ़िल्म में न ही स्टोरी स्ट्रांग है ना ही कुछ और ,यँहा तक की फ़िल्म में जितने भी एक्शन सीन हैं अगर आप उनको ध्यान से देखेंगे तो आपको लगेगा ये आपस मे फाइट प्रेक्टिस कर रहे हैं ।फाइट भी हो रही है और कंही किसी को चोट न लगे इस बात का भी ध्यान रखा जा रहा है ।एक्शन डाइरेक्टर या फिर विद्युत फाइट को रियल बनाने के चक्कर मे शायद ये गलती कर बैठे।

कहानी

फ़िल्म की कहानी लड़की का मुंह दबाये एक सख्श से शुरू होती है पर वो कोई और नही हमारे हीरो विद्युत हैं जो अपनी बीवी को सल्फ डिफेंस के दावँ-पेच सिखा रहे है ये दृश्य बीच के किनारे रोमांटिक सीन में बदल जाता है ,फिर अचानक विद्युत की बीवी बेहोश हो जाती ,डॉक्टर बताता है कि इनकी बीवी का दिल काम करना बंद कर रहा है ऑपरेशन करना पड़ेगा जिसमे 70 लाख रुपये लगेंगें जिसका इंतज़ाम अपना हीरो घर बेच कर पूरा कर लेता है ।ऑपरेशन सफल भी हो जाता है और डिसचार्ज कराने के लिए विद्युत अस्पताल आता है दूसरी तरफ टेररिस्ट अस्पताल पे अटैक कर देते हैं यंही से कहानी दूसरी तरफ टर्न ले लेती है । एक आर्म्स स्मगलर डीलर को जेल से छुड़ाने के लिए उसका पेस मेकर मैनिपुलेट करके अस्पताल लाया जाता है जँहा अस्पताल पर अटैक करके उसको वँहा से छुड़ाने के प्लान होता है पर विद्युत के होते हुए ऐसा संभव ही नही तो वो सारे गुंडों को एक एक करके मारता चला जाता है यही कहानी है ।

Review

सनक जैसा कुछ नही इससे ज्यादा तो सनक सलमान खान की जय हो मूवी में सलमान खान ने खुद दिखयी है शायद कनिष्क वर्मा को एक बार जय हो मूवी के सलमान खान के सनक वाले सीन जरूर देखेने चाहिए तो पता चलेगा सनकी किसे कहते हैं।और रही बात सनक की तो किसी काम को पूरा करने का जुनून सनक कहलाता है जो इसमे दिखा ही नही ।इस फ़िल्म में तो विलन कहता भी है “अपनी सनक दिखा” ,हीरो भी कहता है “फिर मत कहना वार्निंग नही दी” तो लगता है कि शायद अब कुछ धमाका होगा पर कुछ नही होता।

इस फ़िल्म में कुछ एक एक्शन आपको अच्छे लग सकते हैं पर फ़िल्म विद्युत के एक्शन लेवल की नही है। कॉमेंडो फ़िल्म सीरीज के एक्शन इस फ़िल्म की तुलना में कंही ज्यादा अच्छे थे ।फिर भी विद्युत के फैंस के लिए one time watch मूवी है।

Acting

विद्युत जामवाल का एक्शन जबरदस्त है इस फ़िल्म में उनकी एक्टिंग बेहतरीन है।रुक्मिणी मैत्रा ने फ्रेश स्टार्ट लिया है अभिनय अच्छा है। नेहा धूपिया एसीपी की भूमिका में हैं जॉनकी एक सुलझी और डेयरिंग किरदार में नजर आयेंगी, बस इनका रोल इतना ही है बाकी फ़िल्म में लाइफ सेवियर सिर्फ और सिर्फ विद्युत जामवाल ही हैं ।कनिष्क वर्मा ने किसी दूसरे को मौका ही नही दिया किसी दूसरे को गुंडो को मारने का बहरहाल फ़िल्म का विलन साजू है जो आश्रम वेबसेरिसज में अभिनय करने वाले चंदन रॉय सान्याल ने किया है इनका अभिनय बेहतरीन है ,बाकी कलाकारों ने स्क्रिप्ट के हिसाब से अपना अपना काम किया है ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!