Movie Rashmi Rocket Review :तापसी की एक और बेहतरीन फ़िल्म

तापसी की एक और बेहतरीन फ़िल्म जिसको देख कर आप गौरवान्वित फील करोगे आज इस पोस्ट में हम Rashmi Rocket मूवी का review करेंगे।

Rashmi Rocket Movie Review :

ये फ़िल्म एक दमदार विषय पर बनी है, जो तेज धावक दुती चंद की  याद दिलाती है, जिन्हें जेंडर टेस्ट में फेल होने के बाद एशियन गेम्स में खेलने का मौका नहीं मिला था।

फिल्म में तापसी पन्नू, प्रियांशु पेन्युली, अभिषेक बनर्जी, सुप्रिया पाठक, मनोज जोशी तथा अन्य कलाकारों ने अभिनय किया है।इस फिल्म का निर्देशन आकर्ष खुराना ने किया है और फिल्म के निर्माता रोनी स्क्रूवाला हैं।

रश्मि रॉकेट की कहानी :

फिल्म की कहानी पुलिस की इंट्री से शुरू होती है पुलिस गर्ल्स हॉस्टल में लड़का होने की कंप्लेन बोलते हुए इंटर करते हैं और फिर वह रश्मि को थप्पड़ मारकर बिना महिला पुलिस के अरेस्ट कर लेते है।रश्मि का गुनाह क्या है? ये दर्शक सोंचने लगते हैं और कहानी फ्लेशबैक 14 साल पीछे गुजरात के भुज से शुरू होती है, जिसमें रश्मि के बचपन से बड़े होने तक की कहानी  दिखाई गई है,फ़िल्म में रश्मि के माता-पिता सुप्रिया पाठक और मनोज जोशी ने उसको बहुत सपोर्ट किया है ।

वह गांव में दूसरी महिलाओं के हक के लिए लड़ते भी दिखाई गई है साथ ही साथ वह टूरिस्ट गाइड भी है,जिसके चलते उसकी मुलाकात गगन (प्रियांशु पेन्युली) से होती है ये दोनों एक दुसरे को पसंद करने लगते हैं ।गगन के मोटीवेशन से तापसी इंडिया के लिए रनिंग कंपीटिशन में भाग लेने के लिए तैयार हो जाती है ।स्टेट लेवल  पर वो चैपियन बन जाती है अब बात आती है इंडिया लेवल पर जँहा वो इंडियन एसोसिएशन में जाती है वंहा उसके  कुछ प्रतिद्वंद्वी  उसको परेशान करते है, पर उसका फोकस अपने गेम पर होता है जिससे वो सबको हरा देती है ।

एशियन गेम्स में हिस्सा लेने से पहले कुछ ऐसा होता है, जिसकी उसने कभी कल्पना भी नहीं की थी ,एसोसिएशन से आई एक महिला उसे अपने साथ आने के लिए कहती है और अपने साथ ले जाती है, जँहा उसे बताया जाता है कि आपका जेंडर टेस्ट होगा जिसपर रश्मि मना करती है, तो वो लोग उसे क्लीन चिट व अन्य प्रोटोकॉल का हावला देते हुए बिना उसकी मर्जी से ट्रांसजेंडर टेस्ट कंसेंट फॉर्म पर रशिम के sign करवा लेते हैं ,फिर वो लोग अल्ट्रा साउंड के नाम पर रश्मि के सारे कपड़े उतार कर उसका टेस्ट करने के लिए कहते हैं ,इससे रश्मि बुरी तरह से परेशान हो जाती है मना भी करती है, पर क्लीन चिट न मिलने के डर से वो ये वाला भी टेस्ट करवा लेती है  और होस्टल वापस आ जाती है जँहा उसको उसकी एक प्रतिद्वन्दी उसे उसके जेंडर पर कमेंट करती है जिसपर रश्मि रियेक्ट करते हुए उसे एक चांटा मार देती है इसपर उसकी प्रतिद्वंद्वी  उससे कहती है you are finsihed ,फिर कहानी फलेश बैक से बाहर आ जाती है ।

जेंडर टेस्ट की बात के बाद रश्मि  पर एसोसिएशन बैन लग देती है मीडिया में भी बात फैल जाती है जिससे रश्मि परेशान हो जाती है ,यंहा पर वकील इस्चित (अभिषेक बेनर्जी) की इंट्री होती है जो रश्मि से एसोसिएशन के खिलाफ केस लड़ने को कहता है पर रश्मि नही मानती ,फिर गगन के समझाने पर 4 महीने बाद रश्मि एसोसिएशन के खिलाफ केस लड़ने को तैयार हो जाती है अब आगे  रश्मि अपना खोया हुआ सम्मान और न्याय ले पाती है या नहीं, कैसे केस लड़ कर जीतती है,इसके लिए आप ये फ़िल्म देखें ।महिला सशक्तीकरण पर बहुत उम्दा फ़िल्म है ये जिसे आकर्ष खुराना ने डायरेक्ट किया है ।

Acting :-

तापसी– हम तापसी को नाम शबाना,पिंक ,और थप्पड जैसी महिला प्रधान फिल्मो में देख चुके हैं तो आपको उनका अभिनय अच्छा लगेगा पर निर्देशक ने फर्स्ट हाफ में यहाँ तक कि सेकंड हाफ में बजी तापसी से अच्छा अभिनय करवाया पर क्लाइमेक्स पर आते आते तापसी से हटकर वो वकील को फ्रंट में ले आते हैं जिससे कुछ दर्शक निराश हो सकते है ।पर शायद निर्देशक लास्ट में फ़िल्म को ज्यादा फ़िल्मी न करते हुए वकील का काम वकील ही करता है इस बात पर फ़ोकस किया पर उनको ये भी सोचना चाहिए था कि पिंक फ़िल्म में अमिताभ के साथ तापसी काम कर चुकी हैं वँहा पर निर्देशक ने तापसी का इम्पैक्ट कम नही पड़ने दिया था ।

सुप्रिया पाठक तापसी की माँ की भूमिका में सुप्रिया पाठक ने बहुत बेहतरीन अभिनय किया ,कैसे एक महिला को सपोर्ट करते हैं इस किरदार दर्शक काफी प्रभावित भी होंगे ।मनोज जोशी ने पिता के अभिनय में भी काफी जान डाल दी है ।हर बाप अगर ऐसे ही अपनी बेटियों को सपोर्ट करे तो बेटियां क्या नही कर सकती ।

प्रियांशु पेन्युली – आर्मी जवान के अभिनय में प्रियांशु पेन्युली परफेक्ट लगे हैं उन्होंने उतना ही किया जितना निर्देशक ने कहा इसके बावजूद उनका अभिनय अच्छा रहा ।

अभिषेक बेनर्जी- तापसी के बाद फ़िल्म में जिसने बेहतरीन अभिनय किया वो हैं अभिषेक, इन्होंने अपने ही अंदाज से दर्शको को अपनी तरफ आकर्षित किया शानदार अभिनय किया ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!