Indian Must Watch Kashmir Files

कश्मीर फ़ाइल एक ऐसी फिल्म जिसने हिंदुओ को सोचने पर मजबूर कर दिया कि ” क्या धर्म निरपेक्षता सिर्फ हिन्दुओ की ही जिम्मेदारी है?”

Secular Indian Must Watch The Kashmir Files

कश्मीर पर बनी एक ऐसी फिल्म जो इससे पहले कभी नही बनी ।इससे पहले कश्मीर की हकीक़त इतनी ईमानदारी से किसी भी फ़िल्म मेकर ने नही दिखाई।
दिल्ली के फेमस कॉलेज की पोल खोलती ये फ़िल्म हर एक पहलू को बहुत ही बारीक़ी से समझाने में सफल होती है । Indian Must Watch Kashmir Files
दर्शन कुमार ,अनुपम ख़ैर और मिथुन चक्रवर्ती का मार्मिक अभिनय दर्शकों को रोने से रोक नही पायेगा। बेहतरीन अदाकारी ऐसी महत्वपूर्ण फ़िल्म में ही देखने को मिलती है।


फ़िल्म की कहानी कशमीर सन 1990 के दृश्य से शुरू होती है जिसमे कुछ बच्चे क्रिकेट खेल रहे होते हैं।रेडियो पर इंडिया -पाकिस्तान क्रिकेट मैच की कॉमेंट्री हो रही होती है, जिसमे सचिन के शॉट पर शिवा नाम का बच्चा उछल -उछल कर सचिन की तारीफ करने लगता है, जिस पर वंही पर कश्मीर के कुछ बड़े लड़के आकर शिवा को मारने लगते हैं और उसे दुश्मन देश को जिंदाबाद कहने पर जोर देते हैं पर उसी समय उसका दोस्त उसे वंहा से बचा लेता है।फ़िल्म के एक और रात के दृश्य में कश्मीर की मस्जिदों के लाउड स्पीकर से आवाज आती है कि काफ़िर (हिंदू ,कश्मीरी पंडित) या तो मुस्लिम बन जाये ,या काश्मीर छोड़ कर भाग जाएं या मर जाये,अपने घर की औरतों को छोड़ कर भाग जाएं,आप ये सब सुनकर गुस्सा या हैरान हो सकते हैं, पर 1990 में कश्मीर में कितने आराम से ये सब खुले आम धमकी देते थे ।

कितने आराम से तिरंगा झंडा हटा कर दूसरा झंडा लगा देते थे,शाशन प्रशासन बेबस, लाचार खड़ा तमाशा देखता रहता था।

आर्टिकल 370 का होना एक अभिशाप था ,जिसे हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने हटा कर कश्मीर और देश का भला किया है ,उनके इस कदम की हम सराहनIndian Must Watch Kashmir Files


ऐसे तमाम दृश्यों से भरी ये फ़िल्म बेशक काश्मीरी पंडितों के घाव को कुरेदगी पर साथ ही साथ सेकुलर इंडिया को सोचने पर मजबूर भी करेगी कि क्या जो हुआ वो ठीक था। इंडिया में जो कश्मीरी पंडितों या हिन्दुओ के साथ जो हुआ ये कँहा से और क्यों शुरू हुआ।इसके पीछे किसका हाँथ था कौन ताकते इसके पीछे थी ,क्यों इसके बारे में पूरे इंडिया को पता नही चला ,या पता नही चलने दिया गया।ये भी एक गंभीर विषय है।इसकी जाँच होनी चाहिए और गुनहगारों को कड़ी से कड़ी सज़ा मिलनी चाहिए। Indian Must Watch Kashmir Files

क्या ऐसे शिक्षण संस्थानों को बंद नही करना चाहिये जंहा भारत विरोधी तत्व पलते हैं,भारत का नमक खा कर नमक हरामी करते हैं ।ऐसे शिक्षण संस्थान जहाँ शिक्षा के नाम पर यूथ का ब्रैन वाश करके भारत के खिलाफ खड़ा किया जा रहा है।
ऐसे संस्थान तुरंत बंद होने चाहिए जो देश विरोधी ताकतों को बल देने का काम करती हैं।ऐसे संस्थान तुरंत बंद होने चाहिए जंहा देश विरोधी नारे लगते हों।
अगर ऐसा नही हुआ तो हम एक तरफ विकास तो कर लेंगे पर दूसरी तरफ ब्रेन वाश यूथ के रूप में दुश्मन भी देश के अंदर ही बना लेंगे । गम्भीरता से सोंचे और सरकार इस दिशा में कदम उठाए।
कश्मीर से आर्टिकल 370 का हटाना देश के लिए बेशक अच्छा है और इसका स्वागत भी होंना चाहिए, वँहा से निकाले गए कश्मीरी पंडितों तथा हिंदुओ को दोबारा वहाँ बसाने के लिए तेजी से कार्य करना चाहिए।


अंत मे फ़िल्म के डाइरेक्टर विवेक अग्निहोत्री को कोटि-कोटि धन्यवाद जिन्होंने ऐसी फिल्म बनाई जिसके माध्यम से या पता चला कि वास्तव में 1990 में कश्मीर में क्या हुआ था।
कैसे किन हालात में वँहा के कश्मीरी पंडितों व हिन्दुओं को सामना करना पड़ा ,किसने क्या-क्या खोया किसने- किसने जान गवाई ।अगर वो ये फ़िल्म न बनाते तो हम सब ये जान नही पाते कि हम भी हिन्दू हैं।और अगर भारत के कश्मीर में ये हो सकता है ,तो भारत के किसी भी कोने में ये दोबारा कभी न होने पाए ऐसी हमारी भारत सरकार से अपील है ।

Indian Must Watch The Kashmir Files

भारत माता की जय |वन्दे मातरम |जय हिंद

Indian Must Watch The Kashmir Files

Leave a Comment

error: Content is protected !!