सिम कम्पनियो की मनमानी

सिम कम्पनियो के बढ़ते रेट ने आम लोगो की दिक्कतें बढ़ा दी हैं ।ऐसा नही है कि केवल पेट्रोल के दाम बढ़ने से ही प्रॉब्लम है ।सिम कम्पनियो की मनमानी हुम लोगो को मजबूर कर रही है समझ नही आता कि क्या किया जाये।

हर तरफ प्रॉब्लम बढ़ी है सरकार ने राहत देंने के बजाय ऐसे ही छोड़ दिया है ।जनता कैसे इन सब से जूझ रही है उनको इन सबसे मतलब ही नही,उनको पोर्ट कराने जाना नही पड़ता ,न ही उनको 3 दिन का इंतजार करना पड़ता क्योंकि वो सरकार है कहने को जन सेवक पर क्या वास्तव में क्या वे हैं? ये चिंतनीय विषय है ।

आज हम इस पोस्ट में टेलीकॉम सेक्टर में आये इस बदलाव से लोगो की जेबो पर पड़ने वाले बोझ के बारे में बात करेंगे।

तो साहेब बात ये उन दिनों की है जब सन 2016 में JIO सिम आया ।उससे पहले सब ठीक था Aircel Uninor जैसी छोटी कंपनियों से नीचे तबके के लोग खुश थे क्योंकि इनकी काल दरे ,sms पैक सब सस्ता था।

Airtel ,Idea, और Voda कंपनी भी अपने सिम की वैलिडिटी के लिए एक्सट्रा charg नही कर रहीं थी मतलब की अगर आप एक बार सिम ले लो और उसे 3 या 4 महीने रिचार्ज न करो तब भी 10 के छोटे रिचार्ज से बात होती रहती थी तब इन कम्पनियो के 6 महीने में मिनिमम ट्रांजेक्शन 100 या 200 रुपये होती थी वो भी न के बराबर थीं।

पर अब जब से जियो का सिम आया है तब से टेलीकॉम सेक्टर में डाटा और अनलिमिटेड कॉल्स की दरों में क्रांति आ गई ।लोगों ने इसको हाथों हाथ लिया सबने जिओ सिम से मिलने वाले लाभ को भरपूर लिया ।Jio ने भी लॉन्च होते ही अपने सिम मुफ्त में बाटे और लोगो को अपना दीवाना बना दिया ।जँहा पहले हम 2g तथा 3g से नेट चलाते थे Jio के आने के बाद 4g स्पीड के साथ नेट चलाने लगे ।जिओ या यूं कहें अम्बानी फैमिली ने टेलीकॉम सेक्टर में बादशाहत कायम कर ली है।

खैर जो हुआ तो हुआ पर इसका खामियाजा दूसरी टेलीकॉम एआईएम कंपनियों उठाना पड़ा uninor और Aircel कंपनी बन्द हो गई Voda और Idea आपस मे Merg हो गईं अब वो VI के नाम से जाने जाते हैं और बाकी राह गया Airtel वो भी कुछ खास नही कर पा रहा या यूं कहें Jio को टक्कर नही दे पा रहा ।

इसका कारण Jio के अनलिमिटेड कॉल प्लान्स और sms पैक जो Jio सस्ते रेट में दे रहा है, वही प्लान्स और पैक Airtel और VI कंपनी महगें रेट में दे रहे हैं ।यही नही Airtel और VI कंपनी के सिम को एक्टिव रखने के लिए आपको हर महीने इसकी वैलिडिटी रिचार्ज भी कराना पड़ता है जो कि अत्याधिक मानसिक उत्पीड़न बनता जा रहा है ,जिसके फलस्वरूप लोग मजबूरी में अपना सिम Jio सिम में पोर्ट करा रहे हैं ।

इसके पीछे लोगो की सोंच यही है कि कमसेकम उनको हर महीने वैलिडिटी को बरकरार रखने के लिए कोई एक्स्ट्रा भुगतान तो नही करना पड़ेगा ।और ये सही भी है ।कॅरोना काल मे जँहा लोगो की आमदनी शून्य हो चुकी हो ,काम काज सब बंद है इसपर सरकार तथा एआईएम कंपनियों के मालिकों को भी सोचना चाहिए कि ऐसे वक्त में वो लोगो के साथ हर तरह से खड़े रहे न की उनका मानसिक ,और आर्थिक शोषण करें।

कंपनी मालिको ध्यान दें लाभ वही जो सबका हो।

धन्यवाद

Leave a Comment

error: Content is protected !!